Only One Moral Story;21st Century Ethics Story-Ankh

April 20, 2019
Only One Moral Story;21st Century Ethics Story
Only One Moral Story

Only One Moral Story

मैं कोर्ट के लिए निकला ही था कि रोड वेज मेरें घर के सामने आकर खड़ी हो गयी क्योकि मेरा घर एकदम हाईवे से सटा हुआ है। मैं बस के अन्दर दाखिल हुआ और  परिचालक से गोण्डा कचेहरी के लिए टिकट लेकर बैठ गया मैंने बस के अन्दर नजर दौड़ाई तो मेरे बगल वाली सीट पर एक दाम्पत्य बैठा हुआ था। उनका एक बेटा और एक बेटी भी थे जो अपने ही धुन में एक दूसरे बाते करते हुए लड़ रहे थे मैं दोनों बच्चों को देखकर मुस्कराया और समाचार प़त्र पढ़ने लगा इतने में परिचालक अन्य लोगों का टिकट बनाता हुआ उन दाम्पत्य के पास आया और बोला, भाई साहब कहाँ जाना है कितने टिकट बनाना है। सज्जन पुरूष थोड़ा संभलते हुए पर्स निकाला और बोला, गोण्डा के लिए दो बना दीजिए। सज्जन पुरूष की बात सुनकर परिचालक दोनों बच्चों की तरफ देखकर बोला, क्यों भाई साहब ये बच्चे आप के नहीं है। परिचालक की बात सुनकर सज्जन पुरूष थोड़ा हडबडा कर बोला, नहीं-नही परिचालक महोदय ये दोनों बच्चे हमारे है
Only One Moral Story,21st Century Ethics Story
Only One Moral Story

Only One Moral Story

      आप की बेटी का भी हॉफ टिकट बनेगा परिचालक ने बेटी की तरफ इशारा करते हुए कहाँ, सज्जन पुरूष थोड़ा रौब, से अरे इतनी छोटी बच्ची का टिकट बनेगा। परिचालक ने मुस्कराते हुआ कहाँ, भाई साहब पाँच साल से लेकर बारह साल तक बच्चों का हॉफ टिकट बनता है आप की बेटी पाँच साल से ज्यादा की उम्र की है। इतने सुनते ही सज्जन पुरूष एक दम से आपा खोकर बोले, आप को मेरी  बेटी पाँच साल से ज्यादा की लग रही है आप का दिमाग तो ठीक है। इतनी तेज आवाज सुनकर बस की अन्य सवारियाँ उन महाशय को देखनी लगी बगल में उन सज्जन की बेटी भी खड़ी सब सुन रही थी लड़की तपाक से बोल उठी, हाँ! पापा आप भूल गये है, मै सात साल की हो गयी हूँ। इतने सुनते ही उन सज्जन के चेहरे का रंग ही उड़ गया और अपनी बेटी को घूरते हुए बोले, चुप रहों! लड़की चुप होने के बजाए दोबारा बोल उठी, क्यों चुप रहूँ? आप ही ने तो कहाँ था कि झूठ बोलना पाप है। ये सुनकर परिचालक उस बच्ची के सच्चाई से भरे चेहरे को देखते हुए ढ़ाई टिकट बना कर उन सज्जन के हाथ में पकड़ाते हुए

 Only One Moral Story

           बड़ी शालीनता से बोला, भाई साहब बीस रूपये के लिए क्यों झूठ बोलकर बच्चो के सामने शर्मींदा हो रहे हो अब तो आप की बेटी ने भी कह दिया की वह सात साल की है।
सज्जन पुरूष ने सौ का नोट देते हुए परिचालक की आँखो में आँखें डालकर थोड़ा झेंपते हुए बोला, माफ करना परिचालक महोदय मै थोड़े पैसें बचाने के चक्कर में मैंने बच्चों को जो नैतिकता पढ़ाई है वह खुद ही भूल गया था।

Only One Moral Story


main kort ke lie nikala hee tha ki rod vej meren ghar ke saamane aakar khadee ho gayee kyoki mera ghar ekadam haeeve se sata hua hai. main bas ke andar daakhil hua aur parichaalak se gonda kacheharee ke lie tikat lekar baith gaya mainne bas ke andar najar daudaee to mere bagal vaalee seet par ek daampaty baitha hua tha. unaka ek beta aur ek betee bhee the jo apane hee dhun mein ek doosare baate karate hue lad rahe the main donon bachchon ko dekhakar muskaraaya aur samaachaar patr padhane laga itane mein parichaalak any logon ka tikat banaata hua un daampaty ke paas aaya aur bola, bhaee saahab kahaan jaana hai kitane tikat banaana hai. sajjan puroosh thoda sambhalate hue pars nikaala aur bola, gonda ke lie do bana deejie. sajjan puroosh kee baat sunakar parichaalak donon bachchon kee taraph dekhakar bola, kyon bhaee saahab ye bachche aap ke nahin hai. parichaalak kee baat sunakar sajjan puroosh thoda hadabada kar bola, nahin-nahee parichaalak mahoday ye donon bachche hamaare hai

aap kee betee ka bhee hoph tikat banega parichaalak ne betee kee taraph ishaara karate hue kahaan, sajjan puroosh thoda raub, se are itanee chhotee bachchee ka tikat banega. parichaalak ne muskaraate hua kahaan, bhaee saahab paanch saal se lekar baarah saal tak bachchon ka hoph tikat banata hai aap kee betee paanch saal se jyaada kee umr kee hai. itane sunate hee sajjan puroosh ek dam se aapa khokar bole, aap ko meree betee paanch saal se jyaada kee lag rahee hai aap ka dimaag to theek hai. itanee tej aavaaj sunakar bas kee any savaariyaan un mahaashay ko dekhanee lagee bagal mein un sajjan kee betee bhee khadee sab sun rahee thee ladakee tapaak se bol uthee, haan! paapa aap bhool gaye hai, mai saat saal kee ho gayee hoon. itane sunate hee un sajjan ke chehare ka rang hee ud gaya aur apanee betee ko ghoorate hue bole, chup rahon! ladakee chup hone ke bajae dobaara bol uthee, kyon chup rahoon? aap hee ne to kahaan tha ki jhooth bolana paap hai. ye sunakar parichaalak us bachchee ke sachchaee se bhare chehare ko dekhate hue dhaee tikat bana kar un sajjan ke haath mein pakadaate hue

badee shaaleenata se bola, bhaee saahab bees roopaye ke lie kyon jhooth bolakar bachcho ke saamane sharmeenda ho rahe ho ab to aap kee betee ne bhee kah diya kee vah saat saal kee hai.
sajjan puroosh ne sau ka not dete hue parichaalak kee aankho mein aankhen daalakar thoda jhempate hue bola, maaph karana parichaalak mahoday mai thode paisen bachaane ke chakkar mein mainne bachchon ko jo naitikata padhaee hai vah khud hee bhool gaya tha.






2 comments:

Theme images by Storman. Powered by Blogger.