स्वच्छ भारत अभियान--hindi kavita-Ankhuva के संग 2019

April 05, 2019
स्वच्छ भारत अभियान
स्वच्छ भारत अभियान,swachh bharat abhiyan
स्वच्छ भारत अभियान


दोनों का गट्ठर

पड़ा अड्डे पर

चाट वाला हाथ बढ़ाता
सब काँपने लगते
क्षण भर भय की रेंखाए आने लगते
किस के करण पर
गर्म जलेबी रखेगा
मानव की लपलपाती जीभ
पाने को आतुर
गर्म जलेबी कैसे खाए
सोच रहा चातुर
खा चुका जलेबी
हाथ भरा, खाली दोना
कहाँ इसको फेंकू
आँखिया ढूढ़ रही है कोना
क्षण भर मुख पर, चिन्ता की रेंखाए,
 स्वच्छता का स्मरण
सत्य को दर्पण दिखाएं
सरकार का वो, हरा, नीला दूत

बना होनहार सपूत

कही दृष्टिगत नही

सरकार के अभियानो में
हम भी अपना योगदान करें
आओं मिलकर भारत ओर महान करें


No comments:

Theme images by Storman. Powered by Blogger.